Copyright ©​ Yogesh Tripathi. All rights reserved.

योगेश त्रिपाठीYogesh Tripathi

अमंचित नाटक 

दिल्ली के श्रीराम सेंटर में 'केशवलीला राम रंगीला' नाटक के लिए 'मोहन राकेश सम्मान' लेते हुए 

भोपाल के शहीद भवन में हुए 'अपने ही पुतले' का एक दृश्य : निर्देशक - विभा श्रीवास्तव 

रीवा में 'आनंद रघुनंदन' के मंचन के बाद 

1- ता में एक इतिहास है            रीवा नरेश विश्वनाथ सिंह रचित 'ध्रुवाष्टक' का नाट्य रूपांतरण 

2- गाथा जानी चोर की              छत्तीसगढ़ में प्रचलित लोककथा पर आधारित 

3- भुवन मोहिनी                      सिद्धविनायक द्विवेदी के उपन्यास 'पथराए नेत्र' पर आधारित 

4- दि कंप्लीट वूमन                  मौलिक सोलो (स्त्री)

5- रघुराज                                1857 में हुई क्रांति के समय बघेलखंड में हुई गतिविधियाँ 

6- कादंबरी                               बाणभट्ट की प्रसिद्ध रचना का नाट्य रूपांतरण 

'शत्रुगंध' रेडियो नाटक का पुरस्कार लेते हुए.

श्री हबीब तनवीर के साथ